पीड़ित परिवारों को मुआवजे के लिए भाजपा विधायकों ने दिया धरना

Desk Editor
Desk Editor 3 Min Read

पटना : छपरा में जहरीली शराब से हुई मौतों को लेकर विपक्षी भाजपा और महागठबंधन सरकार आमने-सामने है। पीडित परिवारों को मुआवजा दिये जाने की मांग को लेकर भाजपा विधायकों और विधान पार्षदों ने नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा और विधान परिषद में विरोधी दल के नेता सम्राट चौधरी के नेतृत्व में बुधवार को विधान सभा परिसर में धरना दिया। भाजपा नेताओं ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके बयान के लिए माफी मांगने और पीड़ित परिवारों को मुआवजा देने की मांग की। दरअसल, विपक्षी दल भाजपा के साथ साथ सरकार के सहयोगी दलों के नेता भी मृतकों के परिजनों को मुआवजा देने की मांग कर रहे है, लेकिन सरकार ने मुआवजा देने से सीधे तौर पर इनकार कर दिया है। विधानसभा परिसर में धरना पर बैठे नेताओं ने अपने हाथों में तख्ती लेकर नीतीश सरकार पर आरोप लगाया कि सारण, बेगूसराय या हो सिवान, शराब ने लील ली सैंकड़ो जान।” उन्होंने नीतीश सरकार से सत्ता संपोषित शराब बिकवाना बंद करने की मांग की। भाजपा नेताओं ने कहा कि नीतीश कुमार को हर हाल में पीड़ित परिवारों को मुआवजा देना होगा। नेताओं ने कहा कि नीतीश कुमार को इस्तीफा देना होगा। शराबबंदी राज्य में फेल हो चुकी है। इससे हर दिन गरीब गुरबे लोग मर रहे हैं, लेकिन ऐसे अपराधों को बढने का बाद भी नीतीश कुमार अपनी गलती मानने को तैयार नहीं हैं। नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि 5 दिनों के शीतकालीन सत्र में विपक्ष ने जनता के सवाल उठाए, लेकिन विधायकों के साथ जो व्यवहार किया गया वह सही नहीं है। शराब मामले में न्यायिक जांच होनी चाहिए। सरकार को पीड़ित परिवारों को मुआवजा देना होगा क्योंकि मौतें सत्ता संपोषित हुई हैं। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार की अहंकारी सरकार विधायिका की आवाज को दबा नहीं सकती है। शराब से राज्य में हो रही मौतों को लेकर भाजपा का हल्ला बोल जारी है। वहीं, सम्राट चौधरी ने कहा कि शराबबंदी के नाम पर लोगों को जहरीली शराब पिलाने का काम किया जा रहा है। नीतीश कुमार उल्टे पीड़ितों के प्रति निर्दयी बने हैं। भाजपा पीड़ितों को मुआवजा दिलाने के लिए आवाज बुलंद करते रहेगी। वहीं पूर्व मंत्री जीवेश मिश्रा ने कहा कि 100 से अधिक लोगों की मौत जहरीली शराब पीने से हो गई, राज्य में इससे बड़ी कोई आपदा नहीं हो सकती है। बच्चे अनाथ हो गए और सैकड़ों महिलाएं बेवा हो गई, लेकिन नीतीश कुमार को उनके प्रति थोड़ी भी संवेदना नहीं है। इस वजह से पूरा बिहार नीतीश कुमार को एक अपराधी की तरह देख रहा है।

Share This Article
Leave a comment