नमन और मनन है सफलता का राज : डॉ जंग बहादुर पांडेय

Desk Editor
Desk Editor 2 Min Read

कोरापुट : ओडिशा केंद्रीय विश्वविद्यालय कोरापुट के शिक्षा विभाग के तत्वावधान में छात्र हित में  ‘सफलता के राज’ पर एक संगोष्ठी का आयोजन मंगलवार को हुआ। गोष्ठी में हिंदी विभाग के अतिथि प्राध्यापक प्रो डॉ जंग बहादुर पांडेय ने मुख्य अतिथि के रूप में इस विषय पर गहन प्रकाश डाला। डा जेबी पांडेय ने कहा कि भारत युवाओं का देश है और युवाओं के पास जोश है और बुजुर्गों के पास होश है।यदि युवा अपने जोश में बुजुर्गों के होश को मिला दें तो सफलता उनके चरण चूमेगी।अतः उन्हें निराश होने की आवश्यकता नहीं है।उन्होंने युवाओं के प्रश्नों का समाधान करते हुए कहा कि मन को एकाग्र करने का एक अमोघ अस्त्र है मन के पहले ‘न’ लगाएं शब्द बनेगा नमन।नमन से मन का अहंकार दूर होगा और मन शांत होगा। मन के पीछे ‘न’ लगाएं शब्द बनेगा मनन। एकाग्र होकर अध्ययन और चिंतन करें। नमन+मनन=ज्ञान की प्राप्ति=जीवन में मनोवांछित फल की प्राप्ति यानि सफलता अर्थात् बल्ले बल्ले।डॉ पांडेय ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि

सूखी उम्मीदों की कोई डाली नहीं होती,

बंद किस्मत की कोई ताली नहीं होती।

झुक जाए जो मां बाप और गुरु के चरणों में,

उसकी झोली कभी खाली नहीं होती।

संगोष्ठी की अध्यक्षता कर रहे शिक्षा विभाग के अध्यक्ष डॉ रमेंद्र कुमार पाढ़ी ने कहा कि यह हम सबके लिए गौरव का संदर्भ है कि डा जेबी पांडेय हमारे छात्र-छात्राओं को सफलता के राज जैसे महत्वपूर्ण विषय पर मंत्र दे रहे हैं।इस अवसर पर डॉ कपिला खेमुंदु, डॉ नूपुर पट्टनायक, डा मानस कुमार मल्लिक, डॉ के वी एन राव, उमेश सिंह तथा राजीव नयन आदि विद्वान विशेष रूप से उपस्थित रहे। संगोष्ठी का संचालन डॉ पार्थ प्रतिम दास ने तथा सरस्वती वंदना डॉ पीबी बनर्जी ने किया।

Share This Article
Leave a comment