जातीय जनगणना से पहले सर्वदलीय बैठक बुलाएं मुख्यमंत्री : डॉ संजय जायसवाल

Desk Editor
Desk Editor 4 Min Read

पटना। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने सरकार से जातीय जनगणना शुरू होने के पहले सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग की है, जिससे सभी दल यह जान सकें कि गणना कैसे की जा रही है। डॉ जायसवाल ने रविवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में महागठबंधन पर चुनावी घोषणा पत्र में किए वादों को लागू नहीं करने को लेकर भी सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि जो उनके घोषणा पत्र में है, उसकी जवाबदेही उन्हें लेनी होगी। श्री जायसवाल ने कहा कि समाचार पत्रों से जानकारी मिली कि सात जनवरी से जातीय जनगणना शुरु हो रही है। उन्होंने कहा कि इसके पहले सर्वदलीय बैठक बुलायी जानी चाहिए। पूर्व में यही निर्णय हुआ था कि सभी दल़ों की स्वीकृति के बाद जातीय गणना का काम शुरू होगा। संवाददाता सम्मेलन में पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष और मीडिया विभाग के प्रमुख राजीव रंजन के अलावा कई अन्य नेता मौजूद थे। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सभी दलों को यह जानने का हक है कि गणना कैसे होगी। उन्होंने कहा कि भाजपा के दो प्रश्न हैं कि गणना में रोहिंग्या और बांग्लादेशियों को कैसे अलग रखा जायेगा और अगड़ी जातियों को जो पिछड़ी जाति में रखा गया उसका क्या होगा, यह जानने का हक राज्य की जनता को भी है।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कहते हैं कि महागठबंधन की सरकार है तो यह भी जरूरी है कि महागठबंधन के चुनावी घोषणा पत्र के वादों को पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि चुनावी घोषणा पत्र में पहली कैबिनेट की बैठक में 10 लाख लोगों को नौकरी देने का वादा किया गया था, लेकिन 10 बैठकें हो चुकी हैं और यह वादा पूरा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि इसी तरह परीक्षा आवेदन पर फीस माफ करने और परीक्षा केंद्र तक जाने पर किराया देने का वादा किया गया था। इसके आलावा समान काम के लिए समान वेतन देने का भी भरोसा जनता को दिया गया था, लेकिन अब तक कोई वादा पूरा नहीं हुआ। उन्होंने दावा करते हुए कहा कि इस सरकार में जो भी नियुक्ति पत्र बांटे गए वह एनडीए काल के थे। उन्होंने कहा कि सीटीईटी और बीटीईटी के अभ्यर्थी नियुक्ति के लिए अभी भी भटक रहे, जबकि इनकी नियुक्ति का फैसला एनडीए काल में ही हो गया था। डॉ जायसवाल ने महागठबंधन में शामिल दलों के घोषणा पत्र पर भी सवाल उठाया। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा के घोषणा पत्र में मुफ्त कोरोना टीका देने, राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्थानीय भाषा को शामिल करने, 3.50 लाख शिक्षकों को नियुक्ति देने का वादा किया गया था, जो पूरा किया गया। इससे पहले, भाजपा कार्यालय में आयोजित मिलन समारोह में सामाजिक संस्था फ्रेंड्स ऑफ मिथिला के सदस्यों ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। भाजपा अध्यक्ष ने सभी सदस्यों को भाजपा की सदस्यता दिलायी और उनका स्वागत किया। भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने वालों में राहुल झा, मनोहर आनंद झा, कमलदेव यादव, सुजीत ठाकुर सहित 380 लोगों के नाम शामिल हैं। उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि सीटीईटी और बीटीईटी अभ्यर्थियों की जल्द नियुक्ति की जाए, नहीं तो भाजपा सड़कों पर उतरेगी। उन्होंने यह भी कहा कि महागठबंधन के घोषणा पत्र को आने वाले विधानसभा सत्र में भी महागठबंधन में शामिल दलों को याद कराया जाएगा।

Share This Article
Leave a comment