बिहार में दलितों और शोषितों का हो रहा उत्पीड़न : चिराग पासवान

Desk Editor
Desk Editor 3 Min Read

पटना। बिहार में बढ़ते अपराध को लेकर लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर लगातार हमलावर हैं। वह हर रोज किसी ने किसी मामले को लेकर मुख्यमंत्री से सवाल पूछते रहते हैं। इसी कड़ी में एक बार फिर उन्होंने सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सत्ता में बने रहने का नैतिक अधिकार खो चुके हैं। उनकी सरकार में गरीब और शोषित लोगों का उत्पीड़न किया जा रहा है। दरअसल, बीते दिनों राज्य में दलित समाज के लोगों की हुई हत्या को लेकर चिराग ने बिहार सरकार पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि हमारा राज्य, पहला ऐसा राज्य है जहां दलित को भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दो हिस्सों में बांट दिया गया है। यहां दलितों को सिर्फ एक वोट बैंक मान लिया गया है। हर बार भले ही उनकी ओर से तरह-तरह की घोषणा की जाती हो, लेकिन वह महज घोषणा तक ही सीमित रहती है। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले जब पासी समाज के लोग अपनी मांग उठा रहे थे तो खुद को दलितों का चिंतक बताने वाले नीतीश कुमार द्वारा ही उनके ऊपर लाठीचार्ज करवाया गया। उस समय उनको कुछ भी ख्याल नहीं रहता कि वो क्या करवा रहे हैं और सही और गलत क्या है। उनको बस इतना ख्याल रहता है कि चुनाव के दौरान कैसे झूठी घोषणाओं से उनका वोट बैंक अपने पाले में किया जाए। भागलपुर हत्याकांड पर कांग्रेस नेता द्वारा उठाए जा रहे सवाल को लेकर चिराग ने कहा कि वो लोग खुद सत्ता में हैं, राज्य में उनकी सरकार है। ऐसे में सवाल खड़ा कर वह किसको मूर्ख बना रहे हैं। अगर सत्ता में रहकर भी उनलोगों को सवाल खड़ा करना पड़ रहा है, विरोध-प्रदर्शन करना पड़ रहा है तो फिर सत्ता में रहने का फायदा क्या है। इसके साथ ही बिहार में लागू शराबबंदी कानून को लेकर चिराग ने कहा कि हमलोग शराबबंदी कानून का समर्थन करते हैं। लेकिन आज इसके अवैध कारोबार से समाज के गरीब और दलित वर्गों का उत्पीड़न किया जा रहा है, इसका हम विरोध करते हैं। मुख्यमंत्री बोलते हैं कि, जो शराब पिएगा वो मरेगा, पर जो शराब बेचेगा वो बचेगा। उसका संरक्षण प्रशासन द्वारा ही किया जायेगा। नीतीश कुमार के शासन में जो शराब पीता है वो महापापी है और जो इसे बेचता है वो महाज्ञानी है।

Share This Article
Leave a comment