कुढ़नी में जात-पात पर विकास भारी : राजीव रंजन

Desk Editor
Desk Editor 3 Min Read

Contents
महेश कुमार सिन्हापटना । भाजपा ने कुढ़नी विधान सभा उपचुनाव में अपार बहुमत से जीत का दावा करते हुए कहा है कि वहां जात-पात पर विकास भारी पड़ रहा है। कुढ़नी के प्रवास से लौटे पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष और मीडिया विभाग के प्रमुख राजीव रंजन ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के व्यक्तित्व और उनके किए कामों का प्रभाव कुढ़नी में चारो तरफ दिखाई पड़ रहा है। जनता पीएम को लेकर गद्गद है और इसी वजह से कुढ़नी में जदयू की जात-पात की राजनीति पर भाजपा का विकास हर तरह से भारी पड़ रहा है। भाजपा के पक्ष में जनता का उत्साह यह साफ़ बता रहा है कि इस उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी की जीत तय हो चुकी है।राजीव रंजन ने कहा कि मोदी सरकार के कार्यों का फायदा देखते हुए कुढ़नी की जनता यह मान चुकी है कि जिस तरह भाजपा के सत्ता में रहते हुए देश आगे बढ़ रहा है उसी तरह भाजपा प्रत्याशी के जीतने से ही कुढ़नी का विकास हो सकता है। इसीलिए लोग खुद आगे बढ़-चढ़ कर भाजपा का प्रचार कर रहे हैं। महागठबंधन पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कुढ़नी में जदयू की लड़ाई केवल भाजपा से ही नहीं बल्कि अपने खुद के कार्यकर्ताओं से भी है। हकीकत में जदयू की पलटी मारने की आदत से न केवल कुढ़नी की जनता गुस्से में हैं बल्कि उसके कार्यकर्ता भी आक्रोशित हैं। इस बार के चुनाव में वह लोग भी जदयू को वोट की चोट पहुंचा कर अपने गुस्से का इजहार करने वाले है।उन्होंने कहा कि जदयू के सामने सबसे बड़ी चुनौती राजद-जदयू के कार्यकर्ताओं को साध पाने की है। पीएम-सीएम पद की डील को लेकर इनके बड़े नेता भले ही एकजुट हो गये हों, लेकिन दशकों तक एक दूसरे से आमने-सामने का संघर्ष करने वाले इनके जमीनी कार्यकर्ता अभी भी खुन्नस से भरे हुए हैं। इसके अलावा पार्टी के बड़े नेताओं की अवसरवादिता ने इनके गुस्से को और भड़का दिया है, जिसका परिणाम इस चुनाव में दिखाई देगा।राजीव रंजन ने कहा कि इसके अलावा राजद के कार्यकर्ता गोपालगंज का बदला निकालने की ताक में भी बैठे हुए है। जिस तरह से जदयू ने गोपालगंज चुनाव से पल्ला झाड़ लिया था, उसी तरह राजद के नेता और कार्यकर्ता भी इस चुनाव से हाथ खींच का बैठे हुए है। लोगों का कहना है कि राजद के नेता अंदर ही अंदर लोगों से भाजपा को वोट देने के लिए कह रहे हैं, जिससे जदयू से गोपालगंज का बदला लिया जा सके।

महेश कुमार सिन्हा

पटना । भाजपा ने कुढ़नी विधान सभा उपचुनाव में अपार बहुमत से जीत का दावा करते हुए कहा है कि वहां जात-पात पर विकास भारी पड़ रहा है। कुढ़नी के प्रवास से लौटे पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष और मीडिया विभाग के प्रमुख राजीव रंजन ने शुक्रवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के व्यक्तित्व और उनके किए कामों का प्रभाव कुढ़नी में चारो तरफ दिखाई पड़ रहा है। जनता पीएम को लेकर गद्गद है और इसी वजह से कुढ़नी में जदयू की जात-पात की राजनीति पर भाजपा का विकास हर तरह से भारी पड़ रहा है। भाजपा के पक्ष में जनता का उत्साह यह साफ़ बता रहा है कि इस उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी की जीत तय हो चुकी है।राजीव रंजन ने कहा कि मोदी सरकार के कार्यों का फायदा देखते हुए कुढ़नी की जनता यह मान चुकी है कि जिस तरह भाजपा के सत्ता में रहते हुए देश आगे बढ़ रहा है उसी तरह भाजपा प्रत्याशी के जीतने से ही कुढ़नी का विकास हो सकता है। इसीलिए लोग खुद आगे बढ़-चढ़ कर भाजपा का प्रचार कर रहे हैं। महागठबंधन पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कुढ़नी में जदयू की लड़ाई केवल भाजपा से ही नहीं बल्कि अपने खुद के कार्यकर्ताओं से भी है। हकीकत में जदयू की पलटी मारने की आदत से न केवल कुढ़नी की जनता गुस्से में हैं बल्कि उसके कार्यकर्ता भी आक्रोशित हैं। इस बार के चुनाव में वह लोग भी जदयू को वोट की चोट पहुंचा कर अपने गुस्से का इजहार करने वाले है।उन्होंने कहा कि जदयू के सामने सबसे बड़ी चुनौती राजद-जदयू के कार्यकर्ताओं को साध पाने की है। पीएम-सीएम पद की डील को लेकर इनके बड़े नेता भले ही एकजुट हो गये हों, लेकिन दशकों तक एक दूसरे से आमने-सामने का संघर्ष करने वाले इनके जमीनी कार्यकर्ता अभी भी खुन्नस से भरे हुए हैं। इसके अलावा पार्टी के बड़े नेताओं की अवसरवादिता ने इनके गुस्से को और भड़का दिया है, जिसका परिणाम इस चुनाव में दिखाई देगा।राजीव रंजन ने कहा कि इसके अलावा राजद के कार्यकर्ता गोपालगंज का बदला निकालने की ताक में भी बैठे हुए है। जिस तरह से जदयू ने गोपालगंज चुनाव से पल्ला झाड़ लिया था, उसी तरह राजद के नेता और कार्यकर्ता भी इस चुनाव से हाथ खींच का बैठे हुए है। लोगों का कहना है कि राजद के नेता अंदर ही अंदर लोगों से भाजपा को वोट देने के लिए कह रहे हैं, जिससे जदयू से गोपालगंज का बदला लिया जा सके।

लेखक : न्यूजवाणी के बिहार के प्रधान संपादक हैं और यूएनआई के ब्यूरो चीफ रह चुके हैं

Share This Article
Leave a comment