भाजपा के लिये बिहार का स्वास्थ्य सर्वोपरि : विजय कुमार सिन्हा

Desk Editor
Desk Editor 3 Min Read

पटना। बिहार विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा ने शनिवार को कहा कि भाजपा भी चाहती है कि लालू जी शीघ्र स्वस्थ हों, लेकिन महागठबंधन की सरकार ने 100 दिन में सूबे का स्वास्थ्य खराब कर दिया है। विजय सिन्हा शुक्रवार को मख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव की कुढ़नी की चुनावी सभा में दिए गए भावनात्मक वक्तव्य पर प्रतिक्रिया दे रहे थे। उन्होंने कहा कि भाजपा को बिहार की जनता के स्वास्थ्य की चिंता है। तेजस्वी यादव की ओर से चुनावी सभा में लालू जी के स्वास्थ्य पर दिए गए भावनात्मक बयान पर उन्होंने कहा कि भाजपा भी चाहती है कि लालू जी शीघ्र स्वस्थ हों, लेकिन महागठबंधन की सरकार ने 100 दिन में ही सूबे के स्वास्थ्य को खराब कर दिया है। भाजपा के लिए बिहार का स्वास्थ्य सर्वोपरि है। चाचा-भतीजा मिलकर कुढ़नी की जनता को झांसा दे रहे हैं। अब जनता उनके इस झांसे में आने वाली नहीं हैं। श्री सिन्हा ने कहा कि जिस बिहार को भाजपा और एनडीए ने बड़ी मुश्किल से हत्या, अपहरण, लूट और बलात्कार की बीमारी से निकाला था। अब वही बीमारी महामारी की तरह राज्य में फैल रही है। सिन्हा ने कहा कि नीतीश कुमार का इकबाल अब खत्म हो चुका है। उनके उम्मीदवार का शराब वाला फोटो वायरल हो चुका है, जिसे कुढ़नी वाले लोग भी देख चुके हैं। इस फोटो की जांच कराने के बजाय वह उनको प्रोत्साहन दे रहे हैं। शराब मामले में गरीबों को जेल और अमीरों को विधायक का उम्मीदवार बनाकर पुरस्कृत कर रहे हैं। क्या यही जनता का राज है?  सिन्हा ने कहा कि राज्य में नशाबंदी अभियान की जरूरत है। शराबबंदी का हश्र लोग देख रहे हैं। शराबबंदी असफल होने के कारण की समीक्षा कर उस पर काम किया जाना चाहिए था। लेकिन लंबी-लंबी बातों के अलावा शराबबंदी में कोई उपलब्धि नहीं मिली है।नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि गोपालगंज में इनका उम्मीदवार दारू कंपनी का मालिक था। ढकोसला और पाखंड की हद तब हो जाती है जब तेजस्वी के दारू वाले उम्मीदवार के समर्थन में मुख्यमंत्री नहीं जाते हैं। लेकिन अपने दारूवाले उम्मीदवार के पक्ष में कुढ़नी आते हैं। सिन्हा ने कहा कि कुढ़नी का जनादेश नीतीश कुमार को बड़ा संदेश देने जा रहा है। महागठबंधन में भगदड़ मचेगी। 2023 में इनकी सरकार नहीं रहेगी। विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि अगर हिम्मत है, तो मुख्यमंत्री विधानसभा भंग कर नया जनादेश लें।

Share This Article
Leave a comment