जांच में हुआ खुलासा, मुस्लिम युवाओं को जिहाद की ट्रेनिंग दे रहा पीएफआई

Desk Editor
Desk Editor 2 Min Read

महेश कुमार सिन्हा

पूरे देश में पीएफआई को बैन कर दिये जाने के बाद बिहार में जारी जांच के क्रम में पीएफआई के इस्लामिक ट्रांसलेशन सेंटर (आईटीसी) के जिहाद तंत्र का खुलासा हुआ है। दरअसल, कुछ दिन पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पीएफआई से जुड़े संदिग्धों का नाम और उनके बैंक खातों की जानकारी बिहार सरकार के मुख्य सचिव को भेजी थी। इस बीच राज्य में स्पेशल ब्रांच के आईजी के आदेश के बाद हुई जांच में यह जानकारी सामने आई है। इसके बाद स्पेशल ब्रांच के आईजी ने राज्य के सभी जिलों के एसपी और इंटेलिजेंस ब्यूरो को पत्र लिखकर आईटीसी पर नजर रखने को कहा है। उन्होंने सभी को अलर्ट रहने का निर्देश दिया है। सूत्रों के अनुसार आईजी के इस आदेश के बाद पीएफआई के इस्लामिक ट्रांसलेशन सेंटर के आतंकी लिंक की पुष्टि हुई है। सूत्रों के मुताबिक आईटीसी पीएफआई का ही एक संगठन है जो मुस्लिम युवकों को आतंकी गतिविधियों के लिए ट्रेनिंग देता है। आईटीसी मुस्लिम युवकों को जिहाद के लिए तैयार करने लिए इससे जुड़ी जानकारियां और किताबें उपलब्ध कराता है। बिहार के मुस्लिम युवकों को आईटीसी की तरफ से जिहादी किताबें और टेक्सट माध्यम से स्क्रिप्ट्स भेजी जाती है। बिना वीपीएन के कोई भी व्यक्ति आईटीसी की वेबसाइट को नहीं खोल सकता है। इसके आलावा आईटीसी दूसरे माध्यमों से भी मुस्लिम युवकों को जिहाद की ट्रेनिंग दे रहा है। सूत्रों के अनुसार जांच में यह जानकारी सामने आई है कि बिहार समेत पूरे देश में पीएफआई की लिंक संगठन आईटीसी सक्रिये है। आईजी की तरफ से जारी आदेश के बाद बिहार का पुलिस विभाग सतर्क हो गया है। आईजी के निर्देशानुसार सभी जिलों के एसपी ने थानेदारों को आईटीसी की वेबसाइट पर चल रही गतिविधियों पर नजर रखने को कहा है। संभावना व्यक्त की जा रही है कि पीएफआई के लिंक संगठन के खुलासे के बाद जल्द ही इससे जुड़े लोगों पर सख्त कार्रवाई की जा सकती है।

Share This Article
Leave a comment