कमलवाले मुझे परेशान कर सकते हैं पर परास्त नहीं : हेमंत सोरेन

Desk Editor
Desk Editor 2 Min Read

चाईबासा : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा है कि कमलवाले मुझे परेशान कर सकते हैं पर परास्त नहीं। वे मंगलवार को खतियानी जोहार यात्रा के तहत पश्चिमी सिंहभूम जिले के खूंटकट्टी मैदान में आयोजित सभा में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि झारखंड में जो 1932 की बात करेगा वही यहां राज करेगा। उन्होंने कहा कि मैं जानता हूं कि विपक्ष के लोग जांच एजेंसियां लगाकर हमें परेशान करेंगे लेकिन मैं डरनेवाला नहीं हूं। हेमंत ने कहा कि बाहर के लोग झारखंड में आकर झोपड़ी बनाकर और गुमटियों में चाय, लिट्टी-चोखा और गुपचुप बेचकर बिल्डिंग बना रहे हैं लेकिन हम वही झोपड़ी में रह रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार झारखंड का विकास कर रही है जिसे कमल वाले पचा नहीं पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमने राज्य के युवाओं के लिए नीति बनायी तो भाजपा और अन्य राज्य के लोगों को दर्द हुआ। अगर नियोजन नीति लागू होती तो बाहरी लोगों को नौकरी नहीं मिलती। यही कारण है कि हमने 1932 का खतियान और ओबीसी को 27 फीसदी आरक्षण नौवीं अनुसूची में डालने का आग्रह किया है। हम जल्द ही नीति लाकर बड़े पैमाने पर नियुक्तियां करेंगे। उन्होंने कहा कि पहले राज्य के लोगों को समय पर पेंशन नहीं मिलता था, पर अब तस्वीर बदल गयी है। अब उन्हें समय पर पेंशन मिलता है। सरकार ने 20 लाख लोगों का नाम राशन कार्ड में जोड़ा है। मैंने निर्देश दिया है कि यदि एफसीआई अनाज नहीं दे रहा है तो बाहर से अनाज खरीदकर लोगों को दे। बहुत जल्द तय समय पर लोगों को अनाज मिलेगा।

Share This Article
Leave a comment