रांची में खुले एसबीआई का स्थानीय प्रधान कार्यालय :  बंधु तिर्की

Desk Editor
Desk Editor 5 Min Read

रांची : झारखंड सरकार की समन्वय समिति के सदस्य तथा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष बंधु तिर्की ने कहा है कि झारखंड गठन के बाद 22 वर्षों की बड़ी अवधि बीत जाने के बाद भी देश के सबसे बड़े वाणिज्यिक बैंक भारतीय स्टेट बैंक का मंडल कार्यालय पटना से ही झारखंड की शाखाओं का संचालन करता है। रांची में इसकी स्थापना नहीं होने के कारण राज्य को अनेक नीतिगत, व्यापारिक, आर्थिक और व्यावहारिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है और इसके कारण न केवल सरकार बल्कि आम लोगों के सामने भी अनेक परेशानियां पेश आती हैं।इसलिए केंद्र सरकार रांची में एसबीआई का मंडल कार्यालय खोले। इस बाबत केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को लिखे गये एक पत्र में श्री तिर्की ने कहा कि झारखंड में भारतीय स्टेट बैंक की कुल 567 शाखाएं कार्यरत हैं और पटना मंडल की पांच सबसे बड़ी शाखाएं धनबाद, जमशेदपुर, रांची और डोरंडा शाखा झारखंड में ही है। इसके साथ ही यह तथ्य भी बहुत अधिक महत्वपूर्ण है कि पटना मंडल के कुल कारोबार का 40 प्रतिशत झारखंड में ही होता है। लेकिन फिर भी व्यावहारिक दृष्टिकोण से पटना मंडल के अधीन होने के कारण सही समय पर सही निर्णय नहीं होता और इसका खामियाजा न केवल झारखंड सरकार बल्कि आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है। श्री तिर्की ने कहा कि इसका नकारात्मक प्रभाव झारखंड के साथ ही देश के आर्थिक विकास पर भी पड़ रहा है।श्री तिर्की ने कहा कि, भारतीय स्टेट बैंक का कारपोरेट कार्यालय मुंबई में है और इसके सत्रह मंडल कार्यालय पूरे देश में कार्यरत हैं जबकि 2013 में मंडल कार्यालयों की संख्या 13 थी। झारखंड की 567 शाखाओं की तुलना में, कर्नाटक, केरल, आंध्र प्रदेश में एसबीआई की कहीं कम शाखाएं हैं लेकिन फिर भी उन प्रदेशों की शाखाओं का प्रबंधन बेंगलुरु, तिरुअनंतपुरम और हैदराबाद मंडल कार्यालय के माध्यम से किया जाता है। दूसरी ओर बैंक ऑफ़ इंडिया तथा केनरा बैंक के स्थानीय प्रधान कार्यालय झारखंड में ही हैं।श्री तिर्की ने कहा कि रांची में मंडल कार्यालय नहीं होने के कारण, बैंक के अधिकारियों द्वारा नीतिगत निर्णय लेने में देरी होती है और अनेक प्रकार की कठिनाइयां भी सामने आती है। इससे झारखंड और यहां के निवासियों के हितों की बड़े पैमाने पर अनदेखी होती है। इसके अलावा भारतीय स्टेट बैंक की विभिन्न शाखाओं द्वारा गृह ऋण की स्वीकृति, व्यावसायिक ऋण को स्वीकार करने, विभिन्न अधिकारियों एवं कर्मचारियों के पदस्थापन में जातिगत भेदभाव एवं पक्षपातपूर्ण व्यवहार के साथ ही भारतीय स्टेट बैंक द्वारा कर राजस्व संग्रहण का लाभ भी झारखंड की बजाय बिहार को मिलता है। श्री तिर्की ने कहा कि, मंडल कार्यालय पटना में होने के कारण रिजर्व बैंक का मुद्रा कोष, पेंशन प्रसंस्करण इकाई अभी वहीं अवस्थित है जिसका नकारात्मक प्रभाव राज्य के विकास पर पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि झारखंड में मंडल कार्यालय की स्थापना इसलिए भी बहुत जरूरी है क्योंकि इसी के बाद राज्य के स्थानीय निवासी एवं मूलवासी कर्मचारी तथा अधिकारियों के साथ पक्षपातपूर्ण व्यवहार पर विराम लग सकता है।वित्त मंत्री से रांची में एसबीआई के मंडल कार्यालय की अविलम्ब स्थापना करने का अनुरोध करते हुए श्री तिर्की ने कहा कि, इसके कारण न केवल झारखंड में औद्योगिक, आर्थिक एवं व्यावसायिक विकास के नए दरवाजे खुलेंगे बल्कि व्यापक स्तर पर रोजगार का भी सृजन होगा जिसका प्रत्यक्ष लाभ झारखंड को तो मिलेगा ही साथ ही देश के विकास पर भी इसका बहुत ही सकारात्मक असर होगा क्योंकि वर्तमान दौर में झारखंड पूरे देश के लिए इंडस्ट्रियल हब है और अनेक क्षेत्र ऐसे हैं जिसके विकास की असीम संभावनाएं झारखंड में ही है बजाय देश के किसी अन्य क्षेत्र के।

Share This Article
Leave a comment