कभी न्यायाधीश नहीं बनना चाहती थीं, पर अब भारतीय-अमेरिकी महिला को नौकरी सबसे अधिक प्यारी

Desk Editor
Desk Editor 1 Min Read

कासरगोड (केरल) : जूली ए मैथ्यू केरल में एक गांव के स्कूल में पढ़ाई बंद करने के बाद अपने माता-पिता के साथ अमेरिका चली गई थीं और वह कभी भी वकील या न्यायाधीश नहीं बनना चाहती थीं। कुछ साल पहले, उनके पिता ने अपने व्यवसाय में कुछ कानूनी मुद्दों का सामना किया। उस समय पहली बार उनके मन में कानून की पढ़ाई करने का विचार आया था। बाद में उन्होंने अमेरिका में 15 साल तक एक वकील के रूप में काम किया और चार साल पहले वह वहां न्यायाधीशों की एक पीठ के लिए चुनी गईं। वह इस पद के लिए चुनी जाने वाली पहली भारतीय-अमेरिकी महिला थीं।

Share This Article
Leave a comment