नीतीश सरकार बस अपनी कुर्सी बचाने और सत्ता का सुख लेने में लगी हुई है : प्रेम रंजन पटेल

Desk Editor
Desk Editor 3 Min Read

पटना : भाजपा बिहार की नीतीश सरकार को उसकी योजनाओं के मुद्दे पर घेरने की तैयारी में जुट गई है। भाजपा इसकी शुरुआत जल-नल योजना में घोटाले के आरोप से करने की तैयारी में जुटी है। इसके लिए भाजपा 30 मई से 30 जून तक कई कार्यक्रम करने जा रही है। इन कार्यक्रमों के जरिए कार्यकर्ताओं को उत्साहित किया जाएगा। इसके साथ जनता के बीच केन्द्र की योजनाओं का प्रचार-प्रसार भी हो, इसका भी ध्यान रखा जायेगा। 27 मई से भाजपा बिहार सरकार की योजनाओं में हो रही गड़बड़ियों को लेकर भी जनता के बीच जायेगी। बताया जाता है कि भाजपा ने नीतीश सरकार की सबसे महत्वाकांक्षी योजना जल-नल योजना को निशाने पर लिया है। इसको लेकर लोजपा (रा) के चिराग पासवान ने भी कई बार सवाल उठाया है। चिराग इस योजना में लगातार घोटाले का आरोप लगाते रहे हैं। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि एक तो काफी गर्मी पड़ रही है। इस गर्मी में राज्य के कई हिस्सों में जल संकट से लोग परेशान हैं। राज्य में नल-जल योजना फेल है। कहीं नल गायब, तो कहीं पाइप सही नहीं है। इसको लेकर भाजपा भभुआ से लेकर बांका तक के पहाड़ी इलाकों में धरना देगी। साथ ही लोगों को बताएगी कि इस योजना में किस तरह से पैसे की बर्बादी हुई? उन्होंने कहा कि सरकार को राज्य की समस्याओं से कोई लेना-देना नहीं है। सरकार बस अपनी कुर्सी बचाने और सत्ता का सुख लेने में लगी है। उन्होंने कहा कि लोगों को पीने के पानी नहीं मिल रहा है। नल जल योजना सिर्फ दिखावा के लिए है। सरकार सिर्फ ढोल पीट रही है। केंद्र सरकार पैसा देने को तैयार है, लेकिन सरकार लेने को तैयार नहीं। जनता समस्याएं झेल रही, लेकिन सरकार को इनसे मतलब नहीं है। प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि पंचायती राज में मुखिया को जो अधिकार दिए गए हैं, उन अधिकारों का हनन बिहार सरकार कर रही है। पंचायत भवन के निर्माण का काम मुखिया के जिम्मे था, लेकिन उसे वापस ले लिया गया। स्ट्रीट लाइट लगाने की योजना सौर ऊर्जा से संबंधित थी। वह भी वापस ले ली गई है। मुखिया संघ की ओर से जगह-जगह धरना-प्रदर्शन हो रहे हैं। भाजपा मुखिया संघ के साथ है। भाजपा निचले स्तर के जनप्रतिनिधियों के साथ है। हमारा मानना है कि नीचे तक सत्ता का विकेन्द्रीकरण होना चाहिए।

Share This Article
Leave a comment