जिद छोड़कर शराबबंदी खत्म करें नीतीश कुमार : आरसीपी सिंह

Desk Editor
Desk Editor 3 Min Read

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कभी बेहद करीबी माने जाने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह ने उन पर जोरदार हमला बोला है।उन्होंने कहा है कि शराबबंदी कानून का भय दिखाकर बिहार में लोगों को डराया जाता है। इस वजह से कोई भी पर्यटक बिहार में रुकना पसंद नहीं करता है। पूर्व केंद्रीय मंत्री मंगलवार को नालंदा में एक समारोह में शामिल होने गए हुए थे। वहीं, इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि पटना एयरपोर्ट पर उतरते ही जहां पर्यटकों का स्वागत किया जाना चाहिए, वहां उन्हें शराबबंदी के नाम पर डराया-धमकाया जाता है। उन्होंने कहा कि हमारे राज्य की सभ्यता-संस्कृति बेहद समृद्ध है। यहां नालंदा,राजगीर,पावापुरी, बोधगया और बगहा है। यहां बहुत पर्यटक स्थल हैं, जहां लोग आते हैं। लेकिन लोग क्यों बड़ी संख्या में नहीं आ रहे हैं, इसके पीछे कई कारण हैं। उसमें से पहला कारण यह है कि बिहार में एक भी 5 स्टार होटल नहीं है। इसके अलावा दूसरी बड़ी वजह बिहार में शराबबंदी लागू होना है।जब भी कोई यात्री प्लेन के जरिए पटना एयरपोर्ट पर उतरता है तो उसे यह एनाउंसमेंट सुनाई देता है कि आप बिहार पहुंच गए हैं। यहां शराब पीना अपराध है। शराब रखना अपराध है। पता नहीं मुख्यमंत्री जी को कैसा लगता होगा। लेकिन जब प्लेन बिहार में लैंड करे तो सबसे पहले ये बताया जाना चाहिए कि यह बुद्ध की धरती है, महावीर की धरती है। यहां आपका स्वागत है। हमारे यहां नालंदा यूनिवर्सिटी है, उसका प्रचार होना चाहिए। लेकिन यहां तो आपको सबसे पहले डराया जाता है। इससे पर्यटन पर असर पड़ता है। लोगों का अपना लाइफ स्टाइल होता है।आरसीपी ने कहा कि मैं तो कहता हूं कि तत्काल शराबबंदी को खत्म कर देना चाहिए। लेकिन, राज्य सरकार अब ताड़ी बेचनेवालों को पकड़ रही है। हकीकत यह है कि, बिहार के सीएम कभी गांव में रहे नहीं। इसलिए उन्हें यह मालूम नहीं की गांव में कितना ताड़ का पेड़ है और इससे कितना रोजगार है।  ऐसे में ताड़ी बंद हो जायेगा तो वो लोग कहां जाएंगे, क्या रोजगार करेंगे? लोग हमेशा से ताड़ी पीते रहे हैं। आप नीरा की बात करते हैं। ताड़ी दिन में तीन बार निकलता है। एक ही बार तीनों टाइम का ताड़ी कैसे निकल जाएगा। कौन उनको यह सब समझा दिया है।

Share This Article
Leave a comment