रिम्स निदेशक के इस्तीफे पर राजनीति तेज, बाबूलाल ने कहा कि अयोग्य मंत्री को विद्वान और अनुभवी लोग पसंद नहीं

Desk Editor
Desk Editor 2 Min Read

 

 

रांची : रिम्स निदेशक डॉ कामेश्वर प्रसाद श्रीवास्तव के इस्तीफे को लेकर राज्य में राजनीति तेज हो गयी है। इसे लेकर प्रदेश भाजपा ने स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता पर तंज कसा है। भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि एक अयोग्य मंत्री को विद्वान और अनुभवी लोग पसंद नहीं हैं। अखबारों में खबर आई कि रिम्स के निदेशक इस्तीफा दे सकते हैं। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है कि पद्मश्री से सम्मानित व्यक्ति जिसकी योग्यता का लोहा पूरे देश ने माना, वह एक अहंकारी, अशिष्ट और तानाशाह मंत्री की साजिश का शिकार हो रहा है। अपने राजनीतिक विरोधियों की मर्दानगी देखने वाले, कभी विरोधियों को ललकारने वाले स्वास्थ्य मंत्री जी अपने विभाग की सुधि क्यों नहीं लेते? अस्पतालों में मरीज स्ट्रेचर के लिए परेशान हैं, डॉक्टरों की भारी कमी है, पूरे प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं का बहुत बुरा हाल है लेकिन आप यह सब छोड़कर एक व्यक्ति के पीछे क्यों पड़े हैं? कहीं वे आपके “पाप” में भागीदार बनने से मना कर दिए हों, इसलिए तो नहीं? वहीं, भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को संबोधित कर कहा है कि रिम्स निदेशक प्रोफेसर डॉ कामेश्वर प्रसाद एक अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त न्यूरोफिजिशियन हैं। वे झारखंड के धरती पुत्र भी हैं। उनका इस्तीफा एक गलत संदेश देगा। लंबे समय से उनके और स्वास्थ्य मंत्री के बीच मनमुटाव की खबरें आ रही थीं। राज्य के हित में यह अच्छा नहीं हुआ। गौरतलब है कि रिम्स निदेशक डॉ कामेश्वर प्रसाद ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उनका इस्तीफा मंजूर भी कर लिया गया है। 15 नवंबर 2020 को उन्होंने योगदान दिया था। उनका तीन साल का कार्यकाल नवंबर तक था।

Share This Article
Leave a comment