जाति और धर्म में ही उलझी रह जाती है बिहार की जनता : प्रशांत किशोर

Desk Editor
Desk Editor 3 Min Read

पटना : चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने एक बार फिर तेजस्वी और लालू यादव पर हमला बोला है। उन्होंने रविवार को कहा कि लालू यादव के बेटे दसवीं भी पास नहीं किया है और उनको चिंता है कि उनका बेटा मुख्यमंत्री कैसे बन जाए? उन्होंने कहा कि बिहार की जनता जाति और धर्म में ही उलझी रह जाती है। वहीं, पीके ने बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि लालू यादव और नीतीश कुमार ने अपने राज में पूरे बिहार की शिक्षा व्यवस्था को पिछले 32 साल में ध्वस्त कर दिया है। उन्होंने कहा कि कीड़े वाली खिचड़ी स्कूल में बच्चों को बांटी जा रही है और उसको खाकर आपका बच्चा कलेक्टर बनेगा? इसके साथ ही बिहार की बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर उन्होंने तत्कालीन और वर्तमान स्वास्थ्य मंत्री पर जमकर हमला बोला। पीके ने कहा कि पहले स्वास्थ्य विभाग भाजपा के पास था। मंगल पांडेय इस विभाग के मंत्री थे और अब यह विभाग राजद के हाथ चला गया है। तेजस्वी यादव इस विभाग के मंत्री हैं। लेकिन आज तक बिहार में स्वास्थ्य व्यवस्था नहीं सुधर पाई है। मंगल पांडेय और तेजस्वी यादव ने स्वास्थ्य सेवाओं को चौपट कर दिया है। ग्रामीण इलाकों का हाल तो और बुरा है। उन्होंने एक बार फिर कहा कि नीतीश कुमार को 2025 तक इंतजार नहीं करना चाहिए। उन्हें अभी ही तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री बना देनी चाहिए। चुनाव के वक्त नया चेहरा देने का क्या फायदा? उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने जब यह घोषणा कर ही दी है कि तेजस्वी के नेतृत्व में महागठबंधन चुनाव लड़ेगा तो 2025 तक इंतजार करने का क्या मतलब? वहीं, एसएससी पेपर लीक मामले पर उन्होंने कहा कि यह रोजमर्रा की घटना बन गई है। पिछले दस वर्षों में कई परीक्षा के पेपर बिहार में लीक हुए लेकिन जवाबदेही कोई नहीं ले रहा है। पिछली बार बीपीएससी का पेपर लिक हुआ था। तब जिस व्यक्ति को पकड़ा गया था, अगले दिन शिक्षा मंत्री के साथ उसकी फोटो छपी थी। उन्होंने कहा कि बात यदि ग्रामीण कार्य विभाग, शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग, पथ निर्माण विभाग की करें तो इन विभागों में मंत्री राजद का है। पीके ने कहा कि इसलिए मैंने कहा है कि नीतीश कुमार को इतने दिनों तक इंतजार नहीं करना चाहिए।

Share This Article
Leave a comment