कैबिनेट विस्तार की अटकलों पर तेजस्वी यादव ने लगाया विराम

Desk Editor
Desk Editor 3 Min Read

पटना : बिहार में नीतीश मंत्रिमंडल के विस्तार की अटकलों पर उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने  फिलहाल ब्रेक लगा दिया है। तेजस्वी ने गुरुवार को साफ कह दिया कि कैबिनेट का विस्तार नहीं होगा। तेजस्वी के इस बयान से कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। पिछले कुछ से कांग्रेस की ओर से कैबिनेट विस्तार की मांग की जा रही थी। कांग्रेस के तरफ से यह दावा भी किया जा रहा था कि खरमास के बाद मुख्यमंत्री कैबिनेट का विस्तार करेंगे। लेकिन तेजस्वी ने कांग्रेस की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। तेजस्वी ने कहा कि कांग्रेस की मांगों को लेकर अभी कोई भी विचार नहीं किया गया है। तेजस्वी ने कहा कि मुझे तो यह समझ नहीं आ रहा है कि आखिकार इस बात की चर्चा कहां से निकल कर सामने आई है? उपमुख्यमंत्री ने कहा कि यह साफ कर देता हूं कि अभी इसको लेकर गठबंधन के अंदर कोई भी बात नहीं हुई है। दरअसल, बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष पद का कमान संभालने के बाद अखिलेश प्रसाद सिंह लगातार नीतीश कुमार की अगुवाई वाली महागठबंधन सरकार में अपनी पार्टी का प्रतिनिधित्व बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि विधानसभा में अपने विधायकों की संख्या के आधार पर कैबिनेट में कांग्रेस को चार मंत्री पद मिलना चाहिए। अखिलेश प्रसाद सिंह का कहना है कि इस संबंध में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मैंने बात की है और उन्होंने आश्वासन भी दिया है। वहीं मुख्यमंत्री ने भी यह साफ कर दिया था कि मंत्रिमंडल का जो विस्तार होगा उसमे  राजद कोटा के दो मंत्री जो हटे थे उन्हें भरा जाएगा। साथ ही कांग्रेस को भी जगह दी जाएगी। बता दें कि अगस्त 2022 में नीतीश कुमार के नेतृत्व में महागठबंधन की सरकार बनी थी, तब राजद कोटे से तेजस्वी यादव को उपमुख्यमंत्री बनाया। विधायकों की संख्या के हिसाब से राजद सबसे बड़ी पार्टी है, इसलिए उसके सर्वाधिक 16 विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली थी। हालांकि बाद में सुधाकर सिंह और कार्तिक सिंह को विवादों के बाद कैबिनेट से इस्तीफा देना पड़ा।इसके अलावा जदयू से 11, कांग्रेस से 2, हिंदुस्तान आवाम मोर्चा से 1 और एक निर्दलीय विधायक मंत्री बने। वाम दलों ने सरकार को बाहर से समर्थन दिया है।

Share This Article
Leave a comment