दलाई लामा ने किया द दलाई लामा सेंटर फॉर तिब्बतन एंड इंडियन एंशियंट विजडम संस्थान का शिलान्यास

Desk Editor
Desk Editor 2 Min Read

बोधगया/पटना : विश्व प्रसिद्ध नालंदा विश्वविद्यालय की तर्ज पर अब बोधगया में भी एक अंतरराष्ट्रीय स्तर के शिक्षण संस्थान की स्थापना की जा रही है।  बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा ने मंगलवार को “द दलाई लामा सेंटर फॉर तिब्बतन एंड इंडियन एंशियंट विजडम “का रिमोट के माध्यम से शिलान्यास किया।  शिलान्यास समारोह में केन्द्रीय कानून मंत्री किरण रिजुजू,बिहार के कृषि मंत्री कुमार सर्वजीत और राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री और सांसद सुशील कुमार मोदी भी मौजूद थे। यह अंतरराष्ट्रीय स्तर का एक संस्थान होगा, जिसमें चार भाषओं में पढाई और शोध होगा।शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान दलाई लामा ने प्रवचन देते हुए कहा कि इंसान को घमंड नहीं करना चाहिए। इंसान के मन में शांति नहीं है और अन्दर क्रोध है तो उससे शरीर को नुकसान पहुंचता है। उन्होंने कहा क्रोध जब भी उत्पन होता है वो ईर्ष्या और घमंड की वजह से होता है। मन में शांति रखनी चाहिए। दलाई लामा ने भारत  के बारे में कहा कि यह अहिंसा के रास्ते पर चलने वाला और मानने वाला देश है। आप जिस भी धर्म को मानते हैं, भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है। उन्होंने कहा तिब्बती अपने आप को खुश नसीब मानते है जो भारत के शरणार्थी है। दलाई लामा ने कहा मेरे पास बहुत कुछ कहने को नहीं है।  राज्य और केंद्र सरकार ने जो मदद की है उसके लिए मैं उन्हें धन्यवाद देता हूं।

Share This Article
Leave a comment