बिहार विधान परिषद में उठा अश्लील भोजपुरी गानों का मामला

Desk Editor
Desk Editor 3 Min Read

पटना : बिहार  विधान परिषद में गुरुवार  को अश्लील भोजपुरी गानों का मामला उठा। राजद के सुनील कुमार सिंह ने सदन में यह मामला उठाते हुए कहा कि अश्लील गानों पर रोक के लिये रेगुलेटरी अथॉरिटी बनायी जाये। उन्होंने कहा कि देश में छह करोड़ लोग भोजपुरी बोलने वाले हैं और पूरी दुनिया में 25 करोड़ लोग भोजपुरी बोलते हैं। जब शराबंदी पर कानून बन सकता है तो अश्लील गानों पर क्यों नहीं? इसके लिये रेगुलेटरी अथॉरिटी बनाई जाए। उन्होंने कहा कि समाज में भोजपुरी गाने से अश्लीलता इसलिए फैल रही है कि भाजपा ने तीन ऐसे गायकों को सांसद बनवा दिया जो अश्लील गाने गाते रहे हैं। उन्होंने रवि किशन और मनोज तिवारी का नाम लेकर उनके द्वारा गाए गानों का जिक्र किया। इस पर विधान परिषद के सभापति देवेश चंद्र ठाकुर ने कहा कि जो व्यक्ति सदन में मौजूद नहीं है, उसका नाम लेकर मत बोलिए। वहीं सुनील कुमार सिंह ने भाजपा को घेरते हुए कहा कि यह जो कुछ भी हो रहा है, यह उचित नहीं है। भाजपा से जुड़े हुए लोग ही  अश्लील गानों को गा रहे हैं और उसको बढ़ावा दे रहे हैं। इस पर भाजपा के सदस्यों ने विरोध जताया और सभापति के निर्देश के बाद मामला शांत हो गया। लेकिन, सदन के बाहर आते ही सुनील सिंह इस मसले पर फिर से अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की है। उन्होंने कहा कि भोजपुरी की जो मिठास है वो कोयल की बोली से कम नहीं है। पूरे देश में 6 करोड़ से अधिक लोग भोजपुरी बोलते हैं। विश्व में इसकी पहचान बन रही है, इसके बाद भी इसमें अश्लीलता परोसी जा रही है। यह कहीं से भी उचित नहीं है। इसी को लेकर हमने सवाल उठाया था। इसके आलावा उन्होंने मनोज तिवारी, रविकिशन और दिनेश लाल यादव पर भी सवाल उठाते हुए हमला बोला। इसी कारण आज देश के युवा उनसे सीख कर इस तरह का काम कर रहे हैं। इसी पर रोक लगाने को लेकर हमने सवाल उठाया था। इसके साथ ही भोजुपरी में भी सेंसर बोर्ड बनाने की मांग उन्होंने करते हुए कहा कि भोजपुरी गाने को मार्केट में लाने से पहले उसकी टेस्टिंग होनी चाहिए।

Share This Article
Leave a comment