तृणमूल कांग्रेस के MLA अनुब्रत मंडल को सीबीआइ ने किया गिरफ्तार

Tech Desk
Tech Desk 3 Min Read

कोलकाता. पशु तस्करी में सीधे शामिल होने के आरोप में वीरभूम जिला तृणमूल कांग्रेस के अध्यक्ष, कद्दावर तृणमूल नेता अनुब्रत मंडल को गुरुवार को सीबीआइ ने गिरफ्तार कर लिया. दिनभर चले ड्रामें के बाद शाम 4.10 बजे सीबीआइ ने आधिकारिक रूप से अनुब्रत को गिरफ्तार करने की घोषणा की. उनके खिलाफ भादवी की धारा 120बी, सात, 10, 11 और 12 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

शाम को अनुब्रत को आसनसोल स्थित सीबीआइ की अदालत में पेश किया जाना है. जहां अनुब्रत के वकीलों ने स्पष्ट कर दिया है कि वे जमानत के लिए अर्जी नहीं लगाएंगें.  बतातें चलें कि बुधवार को ही सीबीआइ ने पूछताछ के लिए अनुब्रत को समन जारी कर बुलाया था. लेकिन बीमारी का बहाना बना कर अनुब्रत मंडल सीबीआइ के बुलावे पर नहीं पहुंचे थे. इसके बाद गुरुवार तड़के सीबीआइ की एक टीम केंद्रीय सुरक्षा बल के जवानों के साथ अनुब्रत के बोलपुर स्थित घर पहुंच गई और लंबी पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया. यहीं नहीं, राज्य सरकार की ओर से अनुब्रत मंडल को दिए गए सुरक्षा कर्मियों को भी बाहर निकाल कर सीबीआइ अधिकारियों ने घर में ताला जड़ दिया. बतातें चलें कि अनुब्रत मंडल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बेहद करीबी नेता माने जाते हैं. ममता उन्हें एक भाई की तरह मानती हैं.

  • बोलपुर महकमा अस्पताल के चिकित्सक से भी पूछताछ

सूत्रों की मानें तो बार-बार बीमारी का बहाना बना कर सीबीआइ की समन के बावजूद नहीं पहुंचने वाले अनुब्रत मंडल बुधवार को भी फिर से बीमारी का बहाना बना कर घर चले गए थे. यही नहीं, चिच्ठी जारी कर सीबीआइ से कहा था कि अभी उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं है. जब को ठीक हो जाएंगें तो आ जाएंगे. लेकिन सीबीआइ को उनकी बातों पर विश्वास नहीं हुआ और बोलपुर महकमा अस्पताल के चिकित्सक चंद्रनाथ अधिकारी से पूछातछ की, जिनपर दबाव बना कर अनुब्रत मंडल को जबरन बीमार दिखाने के लिए प्रिष्क्रिप्शन लिखवाने की कोशिश की गई थी. खबर है कि  सीबीआइ डॉ चंद्रनाथ अधिकारी का बयान भी रिकॉर्ड करवाने की तैयारी कर रही है.

अदालत के बाहर जूता-चप्पल लेकर प्रदर्शन उधर, सीबीआइ कड़ी सुरक्षा के बीच अनुब्रत मंडल को आसनशोल स्थित सीबीआइ की अदालत में लेकर पहुंची है. जहां बड़ी संख्या में भाजपा और माकपा नेता-कार्यकर्ताओं के साथ ही आम लोग भी पहुंच थे. सभी अनुब्रत मंडल को लक्ष्य कर चोर-चोर के नारे लगाते हुए जूते-चप्पल भी दिखाए. यही नहीं, बतासा और नकुलदाना (इलायची दाना) बांट कर खुशी का इजहार किया. गौरतलब है कि अनुब्रत मंडल लोगों को धमकाने के लिए नकुलदाना, गुड़-बातासा और चड़ाम-चड़ाम जैसे डायलोग बोला करते थे.

  • तृणमूल के 19 नेता-मंत्री रडार पर

गौरतलब है कि एसएससी घोटाला मामले में पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के बाद तृणमूल कांग्रेस के 19 नेता प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) व सीबीआइ के रडार पर है. इसमें तृणमूण के पांच मंत्री स्तर के नेता शामिल है.

Share This Article
Leave a comment